Categories
News Transgender

Building a Roadmap for Successful Transitions in Healthcare in India

Navigating healthcare changes can be a difficult road, especially for those seeking gender reassignment or undergoing SRS (Sexual Reassignment Surgery). These transitions, with the correct help and resources, can be empowering and life-changing. In this blog post, we will explore the significance of creating a roadmap for effective healthcare transitions. We will look at the essential components of gender transition surgery and SRS surgery in India, providing useful insights and advice to those considering this life-changing procedure.

  1. Understanding Gender Change Surgery in India: Gender change surgery, also called gender affirmation surgery or gender reassignment surgery, is a complex methodology that plans to adjust a person’s actual qualities to their gender character. In India, there are trustworthy clinics and specific healthcare suppliers, for example, VJ Transgender Clinics, that offer exhaustive support and aptitude in gender change medical procedures. By understanding the cycle, dangers, and advantages of gender change surgery in India, people can come to informed decision about their healthcare process.
  2. The Role of SRS Surgery in Gender Transition: Sexual Reassignment Surgery (SRS), also called gender-affirming surgery, is a basic part of the gender transition process for some people. SRS surgery envelops different methods that adjust the privates to match a singular’s gender character. It is a profoundly private choice, and people should approach educated healthcare professionals who can give extensive consideration and support in the interim.
  3. Importance of a Transition Roadmap: A transition roadmap is a far-reaching plan that frames the means, strategies, and support frameworks engaged in a successful transition. It fills in as an aide, assisting people with exploring the different parts of their healthcare process, including operations, psychological wellness support, social and lawful contemplations, and post-employable consideration. Making a roadmap is fundamental to guarantee a smooth and very much organized transition process, limiting pressure and vulnerability.
  4. Accessing Quality Healthcare Services: While leaving on a transition venture, essential to find healthcare suppliers who are capable, learned, and delicate to the remarkable necessities of transgender people. VJ Transgender Clinics and other respectable healthcare offices in India offer particular services, including gender change surgery and progressing post-usable consideration. These clinics give a protected and supportive climate where people can get quality healthcare services customized to their particular requirements.
  5. The Power of Support Networks: Transitioning to healthcare is definitely not a single excursion. It is fundamental for people to construct major areas of strength for an organization that incorporates healthcare professionals, emotional well-being specialists, support groups, and friends and family. These support frameworks assume a vital part in offering emotional help, direction, and approval all through the transition cycle. They offer a place of refuge for people to share their encounters, seek guidance, and celebrate milestones along their excursions.

Conclusion:

Building a roadmap for successful transitions in healthcare is vital to ensuring a positive and empowering experience for people seeking gender change surgery or going through SRS surgery. By understanding the interaction, accessing quality healthcare services, and sustaining a supportive organization, people can explore their healthcare process with certainty and flexibility.

VJ Transgender Clinics and other legitimate healthcare suppliers in India are devoted to giving exhaustive consideration and support to people all through their transition. Keep in mind, each forward-moving step is a stage towards carrying on with a true and satisfying life.

Categories
Gender Reassignment

How Gender Reassignment is Legally Possible in India

Every Indian citizen, irrespective of caste, creed, religion, etc., has a right to change their gender. They have the right to do so if they feel they don’t align with the gender they are born into. These people are called Transsexuals, who opt to change to different gender with medical help in the form of Gender Change Surgery in India.

It has been made possible for transgender people who undergo SRS Surgery in India. They can identify themselves according to their sexuality on their govt Identities like Aadhar cards, PAN cards, etc. 

Steps to Create a Gender Change Affidavit

Once a person has decided to change their gender, they have to start with preparing an affidavit declaring the change of gender along with a gender name change (if needed). This affidavit must contain the person’s name, their father’s name, address, age & gender and must adhere to the format published by the Department of Publication. These mentioned details are supposed to be used as a supporting proof. This affidavit must be printed on a stamp paper and shall be notarized.

Publishing Advertisement

The next step is to advertise in a leading newspaper in your city or state. The content to be placed in the same advertisement should be the same per the affidavit.

Gazette Procedure

This is the step in which the duly signed application has to be filled out along with the mandatory documents. There is a prescribed fee by the govt, which has to be paid at the time of filing. A Gazette is an official magazine published by the govt.

Gazette Publication

After the submission of the application, the Dept of Publication will review the application for gender reassignment. After the approval, the gender change will be published on Govt e-Gazette. It will take up to 45-60 business days for the transformation of gender notification to appear in the e-Gazette. 

What If the department rejects the Application

Sometimes the application can be rejected by the Department of Publication if the due procedures are not followed. Still, you can apply for the application again. You can also get legal assistance from lawyers to ensure no mistakes and due procedures are observed.

Documents Necessary for Gender Change Application

  • Two Self-attested copies of govt-issued IDs (Aadhar/Voter ID/ Passport).
  • Two Self-attested passport-size pictures.
  • A specimen proforma signed by the applicant and two witnesses.
  • A declaration stating that the information provided in the application is accurate.
  • A letter of request along with the registration fee to the authority.

You can also change your gender in your govt IDs like Aadhar, PAN Card, Passport, Birth certificate, etc. For this, you have to follow the due steps provided for each application to change your gender and name(if required).

Therefore, It is possible for every Indian to change their gender legally and without facing any trouble if due procedures are followed for this process. 

Understanding the transgender community is the need of the hour if we wish to help them in the true sense. 

Categories
Gender change Surgery Gender Dysphoria

What is Gender Dysphoria and treatment in India?

You might be familiar with the gender change surgery news that flashes on social media platforms. At one time, people couldn’t even think about changing their Gender and choosing their actual gender identity, which they felt about themself. Gender change surgery In India is not an ordinary operation.

The main reason for that is that people in India are unaware of the consequences of a person struggling with their biological sex to gender identity. If you’re struggling with Gender dysphoria, you should undergo SRS surgery in India.

What is Gender dysphoria?

Suppose a person who is male by birth but doesn’t feel like a male, and he wants to be like the other Gender is gender dysphoria. In this condition, the person suffers between the actual biological sex and the Gender Identity.

Cause of Gender dysphoria:

No one knows about the cause of gender dysphoria. There are many reasons to trigger it, like environmental factors, cultural factors, wombs, genes, etc.

Surgery : 

This is not an illness; it’s just actually a condition. When a person needs to be matched or reassigned with their gender identity, this surgery is known as Gender reassign or gender confirmation surgery. This surgery helps people to change their gender identity.

Why this surgery is needed:

In the interviews, people suffering from mismatched gender identities said that it’s like a never explained feeling about how they feel living inside the body of their biological Gender, which they don’t like at all. 

Why in India:

If you specifically talk about the Indian people suffering from gender identity problems for many years. They don’t even talk about their issues to the family and friends they know.

It becomes necessary to inform every family and each person about this critical condition among the people.

In my opinion, the third most prominent reason is that the condition and reputation of transgender in India are a big reason to worry. They are allowed in government services and hospital jobs, but only 0.5% of the transgender in India are earning money and living a reputed life.

What about the other? This treatment helps many people, including transgender, to achieve their true Gender identity.

Types of surgery:

Surgeries for the transgender population:

  • Feminizing vaginoplasty
  • Musculanizing phalloplasty
  • Metoidioplasty
  • Facial reconstruction feminizing
  • Reduce tracheal cartilage shave
  • Voice surgery

Surgeries not specific for transgender people:

  • Vaginectomy
  • Orchiectomy
  • Hysterectomy 
  • Augmentation mammoplasty

How Much Does This Surgery Cost?

It depends on the hospital you choose for your surgery and the type of your surgery.

But the average expense for this surgery in India might be $1400 to $9000 more or less. Check the price before visiting any hospital for the surgery.

What to do in Gender Dysphoria:

Don’t suffer anymore. Remember, it’s not an illness. It’s just a condition. Discuss your situation with your family and make them aware of your gender identity. Next, you should visit a reputable hospital for the surgery if needed.

If you don’t know where to seek proper consultation about this condition, then VJs Transgender Clinic is the correct place for you, go there, and you’ll get all your query and problems solved about gender reassignment surgery.

Categories
Hindi Transgender

लिंग पुष्टि सर्जरी क्या होती है और यह कितने प्रकार के होता है ?

लिंग पुष्टि सर्जरी एक ऐसी प्रक्रिया को कहा जाता है, जो लोगों को उनके लिंग में परिवर्तन करने में मदद करता है | लिंग पुष्टि

सर्जरी में ऊपर की सर्जरी, चेहरे की सर्जरी और नीचे की सर्जरी शामिल होती है | इस सर्जरी के परिणामों से ज्यादातर लोग संतुष्ट होते है, जिससे उनके शरीर का दिखना, सही तरह से काम करना और जीवन को बेहतर गुणवंता मिलना भी शामिल होता है | 

लिंग पुष्टि सर्जरी क्या होती है ?          

लिंग पुष्टि सर्जरी आपके शरीर को आपके लिंग की सही पहचान के साथ बेहतर सम्मिलित करने में मदद करता है | यदि जन्म के समय निर्धारित किया गया आपका लिंग आपके लिंग पहचान से बिलकुल अलग है तो आप लिंग पुष्टि सर्जरी का विकल्प का चुनाव करके इस समस्या का सही सम्मिलित कर सकते है | 

 

लिंग पुष्टि सर्जरी क्यों की जाती है ?  

ट्रांसजेंडर, नॉनबाइनरी या फिर लिंग विविधता से संक्रमित लोगों को  दूसरों के सामने खुद को उजागर करने में काफी परेशानी होती है | लिंग पुष्टि ही एक ऐसा विकल्प होता है जिसमे वह खुद को सही पहचान दे सके | इस सर्जरी में कई तरह की प्रक्रियाएं मौजूद है जैसे की :- 

  • वह अपने जननांगो के स्वरूप बदल सकते है | 
  • जन्म के दौरान महिला (ए.एफ.ए.बी )होने से जुड़ी शारीरिक विशेषताओं को बढ़ा या कम कर सकते है | 
  • जन्म के दौरान पुरुष (ए.एम.ए.बी )होने से जुड़ी शारीरिक विशेषताओं को बढ़ा या कम कर सकते है | 

 

लिंग पुष्टि सर्जरी कितने प्रकार के होते है ? 

  • चेहरे के पुननिर्माण की सर्जरी 
  • शीर्ष या छाती की सर्जरी 
  • जननांग या नीचे की सर्जरी 
  • चेहरे में मर्दनाकरण और स्त्रीकरण की सर्जरी 
  • हिस्टेरेक्टॉमी सर्जरी में गर्भाशय को निकाल दिया जाता है 
    • सक्रोप्लास्टी सर्जरी में योनि के बाहरी हिस्से को अंडकोष में बदल दिया जाता है
  • ऑर्किएक्टॉमी सर्जरी में अंडकोष को हटा दिया जाता है, आदि शामिल है 

 

यह सर्जरी को कितना समय लगता है ? 

इस सर्जरी कुछ प्रक्रियाएं ऐसी होती है जिन्हे एक दिन का समय ही लगता है, लेकिन अन्य  समय के साथ कई सर्जरी की आवश्यकता होती है, जैसे की एक टॉप सर्जरी को आमतौर पर एक दिन का समय लगता है वही फैलोप्लास्टी को कई सर्जरी की आवश्यकता होती है जिसमे समय काफी लगता है | अगर इस सर्जरी से जुड़ी कोई भी जानकारी लेना चाहते हो तो आप वीजेएस ट्रांसजेंडर क्लिनिक का परामर्श कर सकते है |   

Categories
Transgender

अब ट्रांसजेंडर महिलाओं में भी हो सकता है शुक्राणुओं उत्पन्न होने की सम्भावना

पेडियाट्रिक्स जर्नल के एक प्रकाशित अध्ययन से यह बात साफ़ हुई है की अमेरिका में दो ट्रांसजेंडर महिलाओं के ऐसे मामले सामने आये है की उनमे व्यवहार्य शुक्राणु पैदा करने की क्षमता बताई गयी हैं।दोनों महिलाओं का कहना है की उनकी यौवन की दवा शुक्राणु पैदा करने में सक्षम थी , पर दूसरी ट्रांसजेंडर मरीज जो की हार्मोन थेरेपी में होने के कारण शुक्राणु पैदा कर नहीं पाई | 

वीजेएस ट्रांसजेंडर क्लिनिक के सीनियर डॉक्टर सी.विजय कुमार का कहना है कि कई ट्रांसजेंडर पुरुष और महिलाये संक्रमण के रूप में हार्मोन थेरेपी लेते है, जिसका उपचार होने में काफी लंबा समय लगता है क्योंकि चिकित्सक इस दौरान बार-बार सुनिश्चित होना पड़ता है, इसमें दो प्रकार की दवा का चिकत्सा के लिए उपयोग होता है जो ट्रांसजेंडर की परिवर्तन प्रक्रिया में प्रयोग किया जाता है | 

एक आंकड़ों यह भी से पता चला है कि ट्रांसजेंडर में प्रजनन परिणामों के बारे में कुछ ज्यादा जानकारी नहीं होती, परन्तु लिंग पुष्टि चिकित्सा के लिए आगे के अध्ययन के लिए अधिक गहन जानकारी की आवश्यकता होती है, जिससे उन रोगियों को काफी मदद मिलती है जो भविष्य में जैविक बच्चे चाहते हैं। 

ट्रांसजेंडर मरीजों को डॉक्टर्स  तक पहुँचने में काफी बाधाओं का सामना करना पड़ता है। इसलिए स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र को अपना मुख्य ध्यान उन लोगों की ओर केंद्रित करना चाहिए, जिन्हे काफी लंबे समय से नजरअंदाज किया जा रहा है। साथ ही यह ट्रांसजेंडरों के लिए सामाजिक और मनोवैज्ञानिक में माने गए कलंक जैसे शब्द को कम करें।

अगर इससे जुड़ी कोई भी जानकारी या फिर सलाह लेना चाहते हो तो आप वीजेएस ट्रांसजेंडर क्लिनिक का चयन कर सकते है |

Categories
Scrotoplasty

क्यों होती है स्क्रॉटोप्लास्टी सर्जरी की आवश्यकता ?

स्क्रॉटोप्लास्टी एक तरह की सर्जरी है, जिसकी सहायता से  लिंग या फिर जालीदार लिंग जैसी समस्या का इलाज किया जाता है | स्क्रॉटोप्लास्टी के उपयोग से सर्जन लिंग प्रमाणीकृत सर्जरी के हिस्से में नए अंडकोष बनाने में कार्य करता है | आइये जानते विस्तार पूर्वक से स्क्रॉटोप्लास्टी सर्जरी के बारे में 

 

स्क्रॉटोप्लास्टी क्या होती है ? 

वी.जे.एस ट्रांसजेंडर क्लिनिक के सीनियर डॉक्टर सी विजय कुमार का मानाना है की ,स्क्रॉटोप्लास्टी सर्जरी की सहायता से ऐसे स्थितियों का इलाज किया जाता  है, जिसमे नए अंडकोष बनाने में या अंडकोष को प्रभावित किया जाता है | अंडकोष लिंग के नीचे बने स्तरयुक्त थैली होती है जिसका काम अंडकोष को पकड़ा और उसकी रक्षा करना होता है | 

 

स्क्रॉटोप्लास्टी की आवश्यकता क्यों होती है ?

डॉक्टर सी विजय कुमार के अनुसार स्क्रॉटोप्लास्टी सर्जरी का उपयोग बच्चों और बालिग में कई कारणों से किया जाता है | कुछ लोग को इस चिकित्सा स्थितियों द्वारा पैदा किया जाता है और अन्य वयस्कों में ऐसी स्थितियों को विकसित करने में उपयोग किया जाता है |अन्य लोग कई कारणों से अंडकोष को पैदा करने या उसको बनाने का चुनाव कर सकते है | 

 

दबा हुआ लिंग 

बच्चों और बालिगों दोनों में ही यह स्तिथि पाई जाती है | बच्चों में ख़ासकर यह स्थिति जन्मजात से ही पाई जाती है | इस स्तिथि में अंडकोष पेट के त्वचा के निचे छुपा होता है | 

अन्य बालिगों में यह स्थिति उनके मोटापे की वजह से होता है, जिसके कारण पेट की चर्बी की वजह से लिम्फेडेमा जैसी स्थिति उत्पन्न हो जाती है | 

अंडकोष का बड़ा या लटका होना   

कई लोग में कॉस्मेटिक की वजह से अंडकोषीय जैसी प्रक्रिया को करवाना चाहते हैं। कॉस्मेटिक स्क्रोटोप्लास्टी के उपयोग से लटके हुए अंडकोष को ऊपर उठाया जा सकता है। 

स्क्रोटोप्लास्टी द्वारा बड़े अंडकोष को छोटे करने में भी सहायता मिल सकती है |  बढ़े हुए अंडकोष वाले व्यक्ति को को कई असुविधा का सामना करना पड़ सकता है जैसे की यौन गतिविधि, व्यायाम या अन्य शारीरिक गतिविधियों में इत्यादि, क्योंकि यह समस्या उनके अंडकोष की राह में आ जाते हैं।

जालीदार लिंग का होना 

कुछ लोगों के अंडकोषों की परत उनके लिंग के शाफ्ट को जोड़ने वाली त्वचा पर होती है जो की जालनुमा रूप को बनाती है। यह जाल कभी-कभी यौन क्रिया को भी प्रभावित कर सकता है। जिसके कारण लोगों को स्क्रोटोप्लास्टी चुनने के लिए प्रेरित किया जा सकता है | 

लिंग की पुष्टिकरण 

लिंग की पुष्टि के लिए लोग स्क्रॉटोप्लास्टी सर्जरी करवाने की इच्छा रखते है , जिसकी सहायता से नए अंडकोष को बनाया जा सकता है |  

आघात होना   

स्क्रोटोप्लास्टी सर्जरी की सहायता से सर्जन, क्षतिग्रस्त हुए अंडकोष की मरम्मत कर सकता है | 

त्वचा से हुए संक्रमण

फोरनियर गैंग्रीन नाम के जानलेवा जीवाणु  लिंग और अंडकोष  के आसपास की त्वचा को नष्ट कर देता है। जिसकी वजह से कई तरह के सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है, परन्तु स्क्रोटोप्लास्टी सर्जरी से अंडकोष  की मरम्मत की जा सकती है | 

कैसे करे स्क्रोटोप्लास्टी सर्जरी के लिए तैयारी 

  • कुछ दवाओं का सेवन न करे :- कुछ दवाएं जैसे रक्त को पतला करने के लिए  या फिर एनएसएआईडीएस जैसे दवाएं का सेवन करने को एक हफ्ता पहले ही बंद कर दे | यह दवाएं रक्तस्राव के जोखिम को बढ़ावा देती है | 
  • भोजन या पेय न करे:- सर्जरी के कुछ समय पहले  या 8 से 12 घंटे से पहले सर्जन आपके भोजन पर प्रतिबंध लगा सकते है, इसलिए इन नियम का पालन जरूर करे | 

अगर इस स्थिति से जुड़ी कोई भी सलाह लेना चाहते हो तो आप वी.जे.एस ट्रांसजेंडर क्लिनिक से ले सकते है या फिर उनकी वेबसाइट पर जाकर विजिट कर सकते है और दिए गए नंबरों पर संपर्क भी कर सकते है | इस क्लिनिक के सभी डॉक्टर स्क्रॉटोप्लास्टी सर्जरी में माहिर है |